Health Information
with Expert Opinion

Home » Healthy Lifestyle » Beauty & Wellness » Oral Care » दांतों की स्वच्छता के लिए ७ उपयोगी टिप्स

दांतों की स्वच्छता के लिए ७ उपयोगी टिप्स

- 3rd July 2017
Oral Care

हमने सभी को यह कहते सुना है की मुंह आपके संपूर्ण स्वास्थ्य की खिडकी होता है। दांत केवल आपको चबाने में या बात करने मदद नहीं करते बल्कि, आपके सौंदर्य और जीवन की गुणवत्ता की छाप होते है। इसलिए अच्छा दंत स्वास्थ्य रखना बहुत जरूरी है। मुंह की स्वच्छता उन दांतों को दर्शाती है जो सांफ और टूटे हुए नहीं है और जो मसूडे गुलाबी है और जिसमें से खून नहीं आता। मुंह की अनुचित सफाई संक्रमण, मसूडों के रोग, हड्डियों की हानी आदि जैसे कई ओरल और मेडीकल समस्याओं को बढावा देता है। यहां कुछ टिप्स दी गई है जो आपको मुंह या दांतों की स्वच्छता बनाए रखने में सहायता करती है।

नियमित और उचित ब्रशिंग

दिन में दो बार ब्रश करना आपके दांतों को साफ रखने का सबसे असान तरीका है। ब्रश करते समय ब्रश को इस तरह से पकडे कि ब्रिसल्स मसूडें के पास ४५ डिग्री का कोण बनाएं। पहले दांतों की बाहरी सतह को धीरे से ब्रश करें। दांत सांफ करने के लिए आगे-पीछे, उपर-नीचे वाली गती का इस्तेमाल करें। अंत में आपके मुंह के पटल को और जीभ की सतह को ब्रश करें। जीभ की सतह को सही जीभ क्लीनर के साथ साफ करना कीटाणूओं, खासकर जीभ के उपर की सतह पर रहने वाले कीटाणूओं को दूर करने में मदद करता है। अनुचित सफाई सांसों की बदबू का कारण बन सकती है और आपके दंत स्वास्थ्य को प्रभावित कर सकती है। छोटे सिर वाले ब्रश का इस्तेमाल करना बेहतर होता है ताकि वह पीछे की दांतों तक भी पहुंच सके। कम से कम दो महिने में एक बार अपना टूथब्रश बदलें। सुबह ब्रश करने से पहले, आप विनेगर से कुल्ला कर सकते है। यह कीटाणूओं को मारने, दाग हटाने और दातों को सफेद रखने में मदद करता है।

फ्लॉसिंग करना

फ्लॉसिंग करने से खाने के कणों को और हनिकारक तत्वों को निकालने में आपको सहायता मिलती है, जिन्हे ब्रश करके हटाया नही जा सकता। यह आपको अपने दांतों के बीच पहुंचने में मदद करता है जहां टूथब्रश नहीं पहुंच सकता यहां तक की माउथवॉश से भी नहीं धो सकते। फ्लॉस को अपने अंगुठे और तर्जनी के बीच रखें और धीरे धीरे दांतों के बीच, दांतों के उपर, और दांतों और मसूड़ों

के बीच चलाएं। दिन में कम से कम एक बार फ्लॉस करना अच्छा होता है।

ब्रशिंग और फ्लॉसिंग के बाद माउथवॉश का इस्तेमाल करें

आपके मुंह को कुल्ला करने के लिए सभी माउथवॉश उपयुक्त नहीं है। सूक्ष्मजीवरोधी माउथवॉश प्लाक बनना कम करता है, क्लोरिन डायऑक्साइड युक्त माउथवॉश कीटाणूओं के विकास को कम करता है, और फ्लोराइड माउथवॉश दांत की सड़न को रोकता है। लेकीन छह साल से कम उम्र के बच्चों के लिए फ्लोराइड युक्त माउथवॉश की सिफारिश नहीं की जाती। माउथवॉश अच्छी सांस और साथ ही में मजबूत दांत बनाए रखने में मदद करता है। ब्रशिंग और फ्लॉसिंग  के बाद माउथवॉश का इस्तेमाल करने की सलाह दी जाती है।

तंबाकू से बचे

तंबाकू को टालने से मुंह का कैंसर और अन्य पीरिडोंटल समस्याओं से बचा जा सकता है । तंबाकू छोडना आपके संपूर्ण स्वास्थ्य की रक्षा के लिए योगदान देता है। आपको यह भी पता होना चाहिए की धुम्रपान के बाद कैंडी, चाय या कॉफी लेने से दोगुना नुकसान होता है।

सोडा, कॉफी और अल्कोहोल सीमीत रखें

फॉस्फोरस वाले पेय पदार्थ शरीर में कैल्शियम का स्तर कम कर देते है जिससे मसूडों के रोग और दांतों की सडन होती है। ऐडिटिव युक्त पेय और खाद्य रंग दांतों का रंग फीका कर देते है।

स्वस्थ भोजन खाएं

स्वस्थ मसूडों के लिए कैल्शियम और विटामिन डी के खुराक की जरूरत होती है। दूध और संतरे का रस पीना बेहतर है और दही, ब्रोकोली, पनीर और अन्य डेयरी उत्पादों का सेवन करना चाहिए क्योंकि इसमे कैल्शियम होता है। दांतों और मसूडों को चीरने या खून आने से रोकने के लिए विटामिन बी कॉम्प्लेक्स की आवश्यकता होती है। स्वस्थ्य दांतों की स्वच्छता बनाए रखने के लिए कॉपर, झिंक, आयोडिन, लोह और पोटेशियम भी आवश्यक है। आप सख्त और कुरकुरा खाना जैसे कि सेब और गाजर भी खा सकते है क्योंकि जब आप इसे खाते है तब कुछ हद तक दांत साफ कर सकते है।

फ्लोराइडयुक्त टूथपेस्ट का इस्तेमाल करें

टूथपेस्ट में उपलब्ध फ्लोराइड दांतो के इनैमल को कडा करने में मदद करता है और सडन की जोखीम को कम करता है। मुंह की स्वच्छता बनाए रखना स्वस्थ दांत और मसूडों के लिए महत्वपूर्ण है। अपने दंत चिकित्सक को एक साल में कम से कम दो बार मिलना आवश्यक है। यह अप्रत्यक्ष दंत समस्या का पता लगाने में मदद करता है और शीघ्र निदान प्रदान करता है।

दांतों की स्वच्छता के लिए ७ उपयोगी टिप्स
Join the Discussion
Tagged on:                                         
X [contact-form-7 id="4889" title="Floating Contact Us"]